Isharo Isharo Mein Lyrics

Isharo Isharo Mein Lyrics is from the movie “Kashmir Ki Kal (1964)”. was released 1964, Right for this video and lyrics is provided by Studio SuperHit Gaane  . The song is sung by Asha Bhosle & Mohammed Rafi. Isharo Isharo Mein Lyrics here you will get Hindi and English fonts in both.

Isharo Isharo Mein Lyrics

Song Creadit

Song : Isharon Isharon Mein
Movie : Kashmir Ki Kali
Singers: Asha Bhosle & Mohammed Rafi
Lyrics: Shamsul Huda Bihari

Isharo Isharo Mein Lyrics In English

Ishaaro ishaaro mein dil lene waale
Bataa ye hunar tune sikhaa kahaa se
Nigaaho nigaaho mein jaadu chalaana
Meri jaan sikhaa hain tum ne jahaa se

Mere dil ko tum bhaa gaye
Meri kyaa thi is mein khataa
Muze jis ne tadapaa diyaa
Yahi thi wo jaalim adaa

Yahi thi wo jaalim adaa
Ye raanzaa ki baate ye majanu ke kisse
Alag to nahin hain meri daasta se
Ishaaro ishaaro mein dil lene waale
Bataa ye hunar tune sikhaa kahaa se

Wo mohabbat jo karate hain
Wo mohabbat jataate nahi
Dhadakane apni dil ki
Kabhi kisi ko sunaate nahi
Kisi ko sunaate nahi

Majaa kyaa rahaa jab
Ke khud kar diyaa ho
Mohabbat kaa ijahaar apne jubaan se
Nigaaho nigaaho mein jaadu chalaana
Meri jaan sikhaa hain tum ne jahaa se

O maanaa ke jaana-ye-jahaa
Laakhon mein tum ek ho
Humaari ki nigaahon ki bhi
Kuchh to magar daad do
Kuchh to magar daad do

Bahaaron ko bhi naaj jis ful par thaa
Wahi ful hum ne chunaa gulasitaa se
Ishaaro ishaaro mein dil lene waale
Bataa ye hunar tune sikhaa kahaa se
Nigaaho nigaaho mein jaadu chalaana

Meri jaan sikhaa hain tum ne jahaa se
Bataa ye hunar tune sikhaa kahaa se
Meri jaan sikhaa hain tum ne jahaa se
Bataa ye hunar tune sikhaa kahaa se
Meri jaan sikhaa hain tum ne jahaa se

Isharo Isharo Mein Lyrics In Hindi

इशारों इशारों में दिल लेने वाले
बता ये हुनर तूने सीखा कहाँ से
निगाहो निगाहों में जादू चलाना
मेरी जान सिखा हैं तुम ने जहा से

मेरे दिल को तुम भा गए
मेरी क्या थी इस में खता
मुझे जिस ने तडपा दिया
यही थी वो ज़ालिम अदा
यही थी वो ज़ालिम अदा

ये राँझा की बाते ये मजनू के किस्से
अलग तो नहीं हैं मेरी दास्ता से
इशारों इशारों में दिल लेने वाले
बता ये हुनर तूने सीखा कहाँ से

वो मोहब्बत जो करते हैं
वो मोहब्बत जताते नहीं
धड़कने अपनी दिल की
कभी किसी को सुनाते नहीं
किसी को सुनाते नहीं
मजा क्या रहा जब

के खुद कर दिया हो
मोहब्बत का इजहार अपने जुबान से
निगाहो निगाहों में जादू चलाना
मेरी जान सिखा हैं तुम ने जहा से

ो माना के जाना-ये-जहा
लाखों में तुम एक हो
हुमारी की निगाहों की भी
कुछ तो मगर दाद दो
कुछ तो मगर दाद दो

बहारों को भी नाज जिस फूल पर था
वही फूल हम ने चुना गुलसिता से
इशारों इशारों में दिल लेने वाले
बता ये हुनर तूने सीखा कहाँ से
निगाहो निगाहों में जादू चलाना

मेरी जान सिखा हैं तुम ने जहा से
बता ये हुनर तूने सीखा कहाँ से
मेरी जान सिखा हैं तुम ने जहा से
बता ये हुनर तूने सीखा कहाँ से
मेरी जान सिखा हैं तुम ने जहा से.

You may like this also : Taarif Karoon Kya Uski Lyrics – Kashmir Ki Kal (1964)